ज़िन्दगी के कुछ ऐसे झूठ , जिनको मानती है दुनिया सच

हमारे इंडिया में अन्धविस्वास कुछ ज़्यादा है हम आपको कुछ ऐसा ही बताने वाले है जिंदगी का सबसे खूबसूरत हिस्सा बचपन होता है बचपन में बच्चा बिलकुल सच बोलता है वह न किसी से किसी तरह की जलन रखता है और न ही किसी की बुराई करता है कहते हैं कि बच्चे भगवान का रूप होते हैं।

बचपन में हमें कुछ ऐसी झूठी बातें बताई जाती हैं, जिसे आप और हम सच मान लेते हैं आज हम आपके लिए कुछ ऐसी ही झूठी बातें लेकर आएं हैं, जिसे बचपन में हम सच समझते थे।

मंदिर में घंटी बजाना

बचपन में हम सभी को बताया जाता था कि मंदिर में घंटा बजाने से भगवान खुश हो जाते हैं यह कुछ हद तक सही भी है लेकिन यदि आज हम वैज्ञानिक नज़रिए से देखें तो ज्यादतर मंदिरों में तांबे की घंटी लगी होती है तांबे को बजाने से निकलने वाली आवाज़ आसपास के सूक्ष्म बैक्टीरिया को मारती है, साथ ही शरीर के सातों केन्द्रों को एक्टिव कर देती हैं।

दही खा कर घर से निकलना

जब आप भी किसी शुभ कार्य से घर से निकलते होंगे तो आपके बुजुर्ग आपको घर से दही खाकर जाने की कहते होंगे यह सिर्फ अंधविश्वास है यदि दही खाने से सब कुछ अच्छा होता तो सभी लोग घर से दही खाकर निकलते इसकी वैज्ञानिक कारण यह है कि गर्म मौसम के कारण दही खाने से पेट ठंडा रहता है।ल साथ ही दही में चीनी मिलाकर खाने से शरीर में ग्लूकोज़ की मात्रा बनी रहती है। इसलिए आप में एनर्जी बनी रहती है।

बैठकर कर खाना खाना

आपको बचपन में यह बताया गया होगा कि जमीन पर बैठकर खाना नहीं खाने से आपके पूर्वज नाराज़ हो जाते हैं इसके पीछे वैज्ञानिक मत है कि जमीन पर बैठकर खाना खाने से आपकी पाचन क्रिया ज्यादा अच्छा काम करती है और खाना आसानी से पाच जाता है।

दरवाज़े पर नींबू लटकाना

यह टोटका आपने जरुर किया होगा। आपको बताया होगा कि ऐसा करने से आपको किसी की नजर, जादू टोना और बुरी ताकतें इससे दूर रहती हैं इसके पीछे वैज्ञानिक कारण हैं नींबू मिर्ची में मौजूद सायट्रिक एसिड होता है, जो कीड़ो मकोड़े को घर में अंदर आने से रोकता है।

रात में नाख़ून नहीं काटना

आपने जब कभी रात में नाख़ून काटे होंगे तो आपको किसी ने जरुर चिल्लाया होगा आपको बताया गया है कि रात में नाख़ून काटोगे बुरी किस्मत होगी अब हम वैज्ञानिक युग में जी रहे हैं तो इसकी सच्चाई भी जान लीजिए।

पुराने वक्त में बिजली नहीं होने के कारण रात में नाख़ून नहीं काटे जाते थे उस वक्त नाख़ून काटने के लिए औजारों का इस्तेमाल किया जाता था इससे अँधेरे में उँगलियाँ कटने का भी डर होता था।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताएं जानकारी पसंद आई तो लाइक ओर शेयर जरूर करे ऐसी ही नई नई जानकारी के लिए हमे फॉलो करें।

Join The Discussion