गर्भावस्था में लड़की है या लड़का कैसे पता करें

0

हेल्लो दोस्तों आज हम बिलकुल अलग टॉपिक ले कर आये है गर्भावस्था से लेकर बच्चे के जन्म से पहले तक हर गर्भवती स्त्री के दिमाग में यही बात चलती रहती है की उनके गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की? सिर्फ गर्भवती स्त्री ही नहीं बल्कि परिवार के सभी सदस्य इसको लेकर अनुमान लगाते रहते हैं की घर में बेटा आएगा या बेटी? इसलिए कोई भी इन तरीके से बच्चे का जेंडर पता नहीं लगा सकते।

कैसे पता करे गर्भावस्था में लड़का है या लड़की

लेकिन कुछ लक्षण हैं जिनकी मदद से यह पता लगाया जा सकता है की गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की? पुरानी मान्यताओं के अनुसार ये सभी लक्षण पूरी तरह सच साबित हुए हैं अर्थात यदि इन लक्षणों पर गौर किया जाए तो यह पता लगाया जा सकता है की आपका होने वाला बच्चा बेटा होगा या बेटी? यहाँ हम उन्ही लक्षणों के बारे में बता रहे हैं इन लक्षणों के माध्यम से आप खुद पता कर सकती हैं की आपके पेट में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की?

कैसे पता करें गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की?

डॉक्टरी जाँच के जरिए ना सही लेकिन इन लक्षणों की मदद से आप खुद जान जाएंगी की आपका आने वाला मेहमान बेटा होगा या बेटी?

अपनी हार्टबीट से पता करें : गर्भवती महिला की हार्टबीट अगर 140 के करीब पहुँच जाए तो समझ लें की गर्भ में लड़की है और यदि हार्टबीट सामान्य है तो गर्भ में लड़का है।

अपने खान पान से पता करें : गर्भधारण के कुछ ही सप्ताह बाद गर्भवती महिला का खान पान बदल जाता है और उनका मन कुछ अलग-अलग खाने का करता है। इसकी मदद से भी जान सकते हैं की पेट में लड़का है या लड़की? अगर गर्भवती महिला को मीठा खाने की इच्छा ज्यादा होती है तो पेट में लड़की होती है और अगर नमकीन खाने की इच्छा हो तो समझ लें पेट में लड़का है।

ब्रैस्ट के आकार से जानें बच्चे का जेंडर : गर्भवती महिला अपनी ब्रैस्ट के आकार को देखकर भी गर्भ में पल रहे शिशु का जेंडर पता कर सकती हैं अगर गर्भवती महिला का दायां ब्रेस्ट बाएं ब्रैस्ट से बड़ा हो तो गर्भ में लड़का होता है और अगर बायां ब्रेस्ट दाएं ब्रेस्ट से बड़ा हो तो गर्भ में लड़की होती है।

मूड स्विंग्स से जानें : कहा जाता है अगर गर्भवती महिला को बहुत ज्यादा मूड स्विंग्स होते हैं और समय समय पर उनका मूड बदलता रहता है तो समझ लें की गर्भ में लड़की है जबकि अगर मूड स्विंग्स सामान्य हो तो लड़का है इसका एक साइंटिफिक कारण ये भी है की जब महिलाओं में फीमेल हॉर्मोन बढ़ने लगते हैं तो मूड स्विंग्स ज्यादा होते है और ऐसा तभी होता है जब गर्भ में लड़की हो।

अपनी त्वचा की रंगत से पता करें : माना जाता है की गर्भावस्था के दौरान अगर त्वचा में निखार और तेज हो तो लड़का होता है और अगर त्वचा में पिंपल्स दाने और त्वचा संबंधी समस्याएं होने लगें तो लड़की होती है।

पेट का आकार बताता है पेट में लड़का है या लड़की? : माना जाता है अगर गर्भवती स्त्री के पेट का आकार गोल होता है तो गर्भ में पल रहा शिशु लड़का होता है जबकि अगर पेट का आकार अंडाकार हो तो समझ लें गर्भ में पल रहा शिशु लड़की है।

वजन से अनुमान लगाएं : अगर गर्भवती स्त्री का वजन ज्यादा होता है तो लड़का पैदा होता है और अगर वजन कम होता है तो लड़की होती है।

शरीर के बाल : अगर गर्भवती महिला के पेट के बीचों बीच छोटे-छोटे बालों का उग आए या हाथ पैर में बाल ज्यादा हो जाएं तो यह लड़का होने की निशानी मानी जाती है इसके विपरीत अगर बाल झड़ने लगें और पतले बेजान हो जाएं तो लड़की होती है।

तो दोस्तों आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताएं।

 

Loading...