गर्मी में क्या करे और कैसे गर्मी से खुद को दूर करे

गर्मी में क्या करे और कैसे गर्मी से खुद को दूर रखे

 

गर्मी का मौसम मार्च शुरू होने के साथ अपना असर दिखाने लगता है धूप तेज होने लगती है दिन बड़े होने लगते हैं पंखे , कूलर और एसी की साफ सफाई याद आने लगती है मई जून में तापमान अपने चरम पर होता है धूप में एक क्षण भी रहना असंभव सा प्रतीत होने लगता है पंखे , कूलर आदि के बिना दम घुटने सा लगता है गर्मी ही इतनी होती है कि इंसान का दम घुटने लगता है लेकिन इंसान क्या करे बस किसी न किसी तरह से उस गर्मी से बचने की सोचता है।

आखिर कब तक कूलर एसी के नीचे बैठे रहे ऑफिस भी जाना होता है मार्किट भी जाना होता है और धुप को देखते है मन करता है कि बस कोई काम न किया जाये परंतु मज़बूरी सब कुछ करा देती है।

गर्मी से खुद को कैसे बचाइए आइये हम आपको बताते है

गर्मी से परेशानी तो सबको होती है लेकिन नवजात शिशु और बच्चे , बुजुर्ग , बीमार तथा गर्मी में अधिक मेहनत का काम करने वाले तथा जो लोग गर्म वातावरण के आदि नहीं होते उन लोगों को अधिक सावधानी बरतने की जरुरत होती है क्योकि काम तो करना ही पड़ता है जो लोग खेतों में काम करते है गर्मी तो उन लोगो से पूछो क्या होती है।

garmi se kaise bache

पानी

गर्मी में इंसान को सबसे ज़्यादा जरुरत पानी की होती है अगर हमारे शरीर में पानी की मात्रा ज्यादा होगी तो हमारे शरीर को गर्मी कम लगेगी शरीर में 75 % पानी ही होता है पानी की कमी होने पर कई शारीरिक प्रक्रियाओं में बाधा उत्पन्न होने लगती है गर्मी में शरीर को ठंडा रखने के लिए पसीने के वजह से पानी बहार निकलता है जिसको हमको पूरा करना होता है इसलिए गर्मी में पानी ज़्यादा पीना चाहिए।

पानी जितना पिया जाये उतना पीना चाहिए अगर किसी को प्यास न भी लगे तब भी पानी अधिक पीना चाहिए पानी हमारे शरीर के लिए बहुत जरुरी है।

इसके अलावा तरल पदार्थ जैसे ठंडाई , छाछ , केरी का पना , गन्ने का रस , नारियल पानी आदि का भरपूर उपयोग करना चाहिये इनसे पौष्टिक तत्व के साथ ठंडक मिलती है गर्मी में कोल्ड ड्रिंक ज़्यादा पीना पसंद करते हैं क्योकि इन सब से हमारे शरीर को ठंडक मिलती है।

कुछ लोग फ्रिज में ठंडी की गई हर वस्तु गर्मी दूर करने का साधन समझ लेते है जैसे कोल्ड ड्रिंक , एसेंस वाले शर्बत आदि लेकिन इनसे फायदे के बजाय नुकसान अधिक होता है शराब , चाय कॉफी , कोल्ड ड्रिंक आदि नहीं पीने चाहिए इनसे शारीर में पानी की कमी हो जाती है हम हमेशा ऊपरी चीज़ो को देखते है अंदर की चीज़ों को नहीं जो हम सोचते है वैसा नही होता है।

फ़ूड

पसीने के कारण शरीर में सिर्फ पानी की कमी नहीं होती बल्कि ग्लूकोज , खनिज , नमक , सोडियम और पोटेशियम आदि की भी कमी हो सकती है हमे ऐसा खाना खाना चाहिए जिससे हमारे शरीर में खाने की मात्रा भी पूरी हो जिससे पानी के अलावा इनकी भी पूर्ती हो सके।

तरबूज , खरबूजा , ककड़ी आदि लेने चाहिये इसके अलावा पोदीना , खीरा ,प्याज , जौ , भुने चने आदि खाने चाहिये ये ऐसी चीजें है जो गर्मी के मौसम में बहुत फायदे देते है सलाद जरूर कहानी चाहिए गर्मी के मौसम में यह हमारे शरीर के लिए बहुत लाभकारी होती है

गर्मी के मौसम में दूध , दही , सब्जी , दाल , आटा आदि जल्दी ख़राब हो जाते हैं खाने पीने की चीजों का बहुत ध्यान रखें इन्हे जल्द से जल्द फ्रिज में ही रख देना चाहिये फ्रिज की सफाई सही तरीके से करनी चाहिए अन्यथा वहाँ भी बैक्टीरिया बढ़ने लगते हैं इन सब पर ज़्यादा ध्यान देना चाहिए सब्जी इतनी ही बनाये जितनी की जरुरत हो सब्जी मसालों की वजह से खराब हो जाती है।

अच्छा भोजन खाना चाहिए गरिष्ठ भोजन तथा तले हुए और मैदा वाले खाद्य पदार्थ का उपयोग नहीं करना चाहिए तेज मिर्च मसाले युक्त भोजन से दूर रहना चाहिए अंडे का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योकि अंडे बहुत गर्म होते है और शरीर में गर्मी पैदा करते हैं।

Must Read – zindagi mei success kaise paye

ठंडा वातावरण

अगर हो तो ठन्डे वातावरण में रहना चाहिए इसके लिए कई प्रकार के साधन अपनाये जा सकते हैं कूलर और एसी तो तापमान को कम करते ही हैं इनके अलावा दिन में जब तेज धूप होती है तब खिडक़ी के पर्दे लगा कर रखें या फिर पहाड़ी इलाके में रहना चाहिए कभी कभी घूम आना चाहिए इससे शरीर को ठंडा वातावरण मिलता हैं।

एक मंजिला मकान हो या आप बिल्डिंग की सबसे ऊपर वाली मंजिल पर रहते हो तो गर्मी अधिक हो जाती है ऐसे में छत पर ऊपर सफ़ेद चूने की परत लगायें इससे धूप परावर्तित हो जाती है और कमरे के अंदर अपेक्षाकृत ठंडक रहती है छत पर गमले में पेड़ पौधे लगाकर भी धूप से बचा जा सकता है जितना हो धुप से बच कर रहे धुप हमारे को नुक्सान पंहुचा देती है।

तेज धूप में खड़ी कार के शीशे बंद होने पर उसके अंदर का तापमान बाहर के तापमान से डेढ़ गुना अधिक हो जाता है धूप में खड़ी की हुई कार में बच्चे को या पालतू को छोड़कर जाने की भूल कभी भी नहीं करनी चाहिये अन्यथा उनका दम घुट सकता है ऐसी दुर्घटनाओं के समाचार पेपर में आते रहते हैं इससे उनकी जान को खतरा हो जाता हैं कभी भी ऐसी भूल न करें ये बहुत भारी पड़ सकती है।

स्किन

पसीने और गर्मी के कारण त्वचा पर बेक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन की संभावना बढ़ जाती है इससे खुजली , फोड़े फुंसी , अलाइयाँ आदि हो सकते हैं गलत तरह के कपडे इस समस्या को बढ़ावा देते है ऐसे में साफ सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए पसीना अधिक आता हो तो दो बार भी नहा सकते है खुद को जितना संभव हो सूखा और स्वच्छ बनाये रखना चाहिए
जितना हो सके जब बाहर जाये तो अपने चेहरे को ढक कर जाये जो धुप आपके चेहरे को नुक्सान न दे सके।

तेज धूप से त्वचा खराब हो जाती है त्वचा को तेज धूप से बचा कर रखना चाहिए स्कार्फ़ , कैप , छाता आदि का उपयोग करना चाहिए और हो सके तो धुप में घर से बाहर नाहु निकलना चाहिए।

आपको हमारी पोस्ट कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Kiran Kashyap

मैं किरण कश्यप एक हिंदी ब्लॉगर हूं हिंदी भाषा की इस website पर आपको वो जानकारी उपलब्ध करवाना चाहती हूँ जो आपकी life के लिए बहुत जरुरी है आपको हमारी इस website पर कुछ ऐसी जानकारी मिलेगी जो आपको कही नहीं मिलेगी हमारा हमेशा से यही प्रयास रहा है कि हम आपको आपकी life की अच्छी जानकारी दे। www.askinhindi.in आप हमारी website को जरूर फॉलो करें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *