जन्माष्टमी के दिन कैसे रखे व्रत और क्या क्या सावधानी रखें।

2

जन्माष्टमी के दिन कैसे रखे व्रत और क्या क्या सावधानी रखें

हेल्लो दोस्तों जन्माष्टमी आने वाली है उसके लिए तैयारी होने लगी है सभी जन्माष्टमी का उत्सव मानने की तैयारी कर रहे है लेकिन हम आपको कुछ महत्व पूर्ण बातें बताने जा रही हूँ आज के समय में सभी लोग
जन्माष्टमी के दिन व्रत रखते है लेकिन व्रत कैसे और क्या सावधानी रखें इसके बारे में थोड़ी जानकारी कम है इसलिए आप पूरी पोस्ट को पढ़े और जानकारी हासिल करें।

जन्माष्टमी

 

व्रत कैसे रखें –

• जन्माष्टमी के व्रत से पहले रात को हल्का भोजन करें, और अगले दिन ब्रम्हचर्य का पूर्ण रुप से पालन करना चाहिए, ऐसी मान्यता है।

• उपवास के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि कार्य से निवृत होकर भगवान कृष्ण का ध्यान करना चाहिए।

• भगवान के ध्यान के बाद उनके व्रत का संकल्प लें, और पूजा की तैयारी करनी चाहिए।

• इस दिन भगवान कृष्ण को माखन, मिश्री और नारियल की बनी मिठाई का भोग लगाया जाता है।

• हाथ में जल, फूल, गंध,फल, कुश लेकर ममखिलपापप्रशमनपूर्वक सर्वाभीष्ट सिद्धये, श्री कृष्ण जन्माष्टमी व्रतमहम करिष्य। इस मंत्र का जाप करना चाहिए।

• रात 12:00 बजे भगवान का जन्म करें, इसके बाद उनका पंचामृत से अभिषेक करें।

• भगवान का चंदन से तिलक करें, और उनको भोग लगाएं उनके भोग में तुलसी का पत्ता जरूर डालना चाहिए।

• जय कन्हैया लाल की कहकर, कृष्ण को झूला झूलाना चाहिए।

• भगवान कृष्ण की घी के दीपक और धूपबत्ती से आरती उतारे, और मंगल भजन गाए।

व्रत में ऐसा बिल्कुल न करें।

जन्माष्टमी व्रत रखने वालों को एक दिन पहले से ही सदाचार का पालन करना चाहिए जो यह व्रत नहीं भी करते हैं, उन्हें भी इस दिन लहसुन, प्याज, बैंगन, मांस मदिरा, पान सुपारी और तंबाकू से परहेज रखना चाहिए व्रत रखने वाले दिन मन में भगवान कृष्ण का ध्यान शुरू कर देना चाहिए और काम भाव, भोग-विलास से खुद को दूर कर लेना चाहिए साथ ही मूल, मसूर दाल के सेवन से भी दूर रहना चाहिए मन में सकारात्मकता को स्थान देना चाहिए भगवान् कृष्ण की कृपा आप पर बनी रहे, नीचे कमेंट करके जय श्री कृष्ण अवश्य लिखे।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताए और
जन्माष्टमी का पर्व बहुत ही धूम धाम से मनाये ।
जय श्री कृष्णा