शंख धार्मिक ही नही बल्कि और भी बहुत से वैज्ञानिक महत्व से जुड़ा हुआ

हम आपको बहुत ही खास जानकारी देने वाले है शंख हिंदू धर्म से जुड़ा है, लेकिन शंख की पहचान यहीं तक सीमित नहीं है। इसका वैज्ञानिक महत्व भी है। इसके उपयोग से कई स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं। हिंदू धर्म और जीवन शैली से जुड़ी कई धार्मिक गतिविधियां और परंपराएं हैं जिनका हमारे जीवन में बहुत महत्व है।

दूसरे शब्दों में, हिंदू धर्म एक धर्म नहीं है बल्कि जीवन का एक तरीका है और इसके भीतर की परंपराएं वैज्ञानिक हैं। ऐसी ही एक परंपरा है शंख बजाना। हिंदू धर्म में शंख का स्थान महत्वपूर्ण है। ऐसा माना जाता है कि अगर घर में शंख रखा जाए तो नकारात्मक ऊर्जा और आसुरी शक्तियां बच जाएंगी। आयुर्वेद भी शंख को लाभकारी मानता है। शंख बजाने से मूत्राशय, पेट के निचले हिस्से, डायाफ्राम, छाती और गर्दन की मांसपेशियों का व्यायाम होता है।

हमारे लिए शंख कितने फायदेमंद हैं, और वे लाभ क्या हैं? चलो चलते हैं

फेफड़ों के लिए फायदेमंद है

शंख बजाना फेफड़ों के लिए एक अच्छा व्यायाम है। पुराणों के अनुसार, यदि कोई श्वसन रोगी नियमित रूप से शंख बजाता है, तो वह रोग से छुटकारा पा सकता है। एक व्यक्ति जो हर दिन शंख बजाता है, गले और फेफड़ों के रोगों से प्रभावित नहीं हो सकता है। शंख सभी मौखिक रोगों को नष्ट कर देता है। शंख बजाते समय, व्यायाम चेहरे, श्वसन प्रणाली यानी नाक, कान और गले पर किया जाता है। कहा जाता है कि शंख बजाने से याददाश्त बढ़ती है।

आंखों के लिए फायदेमंद

शंख सूजन, सूखापन और आंखों के संक्रमण को खत्म करने में भी मदद करता है। इस तरह की समस्या होने पर रात भर शंख में रखा पानी उंगलियों में भर लेना चाहिए और आंखों को उसमें डुबो देना चाहिए और बच्चे को चारों ओर घुमाना चाहिए। इस प्रक्रिया में लगभग 20-30 सेकंड लगने चाहिए। इसके अलावा रातभर शंख में रखे पानी में समान मात्रा में साफ सामान्य पानी मिलाकर आंखों को धोना चाहिए। इससे आंखों की चमक बढ़ती है।

हार्ट अटैक का खतरा कम

जब आप शंख बजाते हैं, तो फेफड़ों से प्रदूषित हवा बाहर निकलती है और शरीर को ताकत मिलती है। नियमित रूप से शंख बजाने से शरीर मजबूत होता है और कार्यक्षमता बढ़ती है। दिल के रोगियों के लिए लगातार शंख बजाना फायदेमंद है। यह हार्ट अटैक के खतरे को भी कम करता है।

बालों के लिए फायदेमंद है

रातभर शंख में रखे पानी में गुलाब जल मिलाएं और जड़ों से इसकी मालिश करें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में बालों का रंग प्राकृतिक हो जाएगा। यह पानी आँखें, मूंछें और यहां तक ​​कि दाढ़ी भी धो सकता है। इससे बाल मुलायम होते हैं।

गुदा और प्रोस्टेट के लिए अच्छा है

शंख का गुदा और प्रोस्टेट ग्रंथि पर सीधा प्रभाव पड़ता है। शंख बजाने से मलाशय की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। बवासीर और अन्य संबंधित रोगों में भी शंख बजाना नियमित रूप से लाभदायक है। यह प्रोस्टेट ग्रंथि को भी प्रभावित करता है। जो व्यक्ति नियमित रूप से शंख बजाता है, वह प्रोस्टेट की बीमारी से पीड़ित नहीं होता है

त्वचा और हड्डियों को लाभ

शंख चर्म रोगों के लिए लाभकारी है। मुझे आश्चर्य है कि यह कैसे हो सकता है, लेकिन आइए देखें कि यह कैसे काम करता है। शाम को शंख में जल भरकर रख दें। अगली सुबह त्वचा पर पानी से मालिश करें। यह त्वचा की समस्याओं जैसे एलर्जी, चकत्ते और सफेद धब्बे को खत्म करता है। शंख प्राकृतिक कैल्शियम, सल्फर और फास्फोरस में समृद्ध है। इसी वजह से अगर शंख में रखे पानी का सेवन किया जाए तो हड्डियां मजबूत बनती हैं। यह दांतों के लिए भी फायदेमंद है।

आपको कैसी लगी जानकारी हमें जरूर बताएं ऐसी ही नई नई जानकारी पाने के लिए हमें फ़ॉलो जरूर करें।

Join The Discussion