शिवलिंग की नही करनी चाहिए ऐसे पूजा, लगता है दोष

Shivling की पूजा करना क्या कभी गलत हो सकता है नही हिंदी वर्ष का पांचवा महीना यानी श्रावण मास 25 जुलाई से आरंभ हो चुका है और इसका समापन 22 अगस्त को रक्षाबंधन के दिन होगा श्रावण का महीना अपने साथ वर्षा ऋतु की भी शुरुआत लेकर आता है चारों ओर हरियाली और हर्षोल्लास का माहौल होता है इसके साथ ही धार्मिक मान्यताओं के अनुसार भी ये महीना बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है।

Shivling

Shivling

हिंदू धर्म में ये पूरा महीना महादेव को समर्पित होता है भगवान शिव के भक्त श्रावण मास में बड़ी ही श्रद्धा और आस्था के साथ शिव भगवान और माता पार्वती को पूजते हैं ऐसा कहते हैं कि शिव जी को प्रसन्न करने हेतु इससे अच्छा अवसर दूसरा कोई नहीं होता।

माना जाता है कि इस दौरान जो भी व्यक्ति महादेव को प्रसन्न करने में सफल होता है उसे शिव जी की विशेष कृपा मिलती है उस व्यक्ति के सभी दुखों का नाश होता है और जीवन में खुशियां आती हैं।

पुरुष और महिलाएं दोनों ही शिव जी की आराधना करते हैं खासतौर पर ऐसा माना जाता है कि कुंवारी कन्या अगर श्रावण में व्रत रखती हैं तो उन्हें शादी के लिए अच्छा पति मिलता है।

यदि विवाहित महिलाएं ये व्रत रखती हैं तो उनके पति की सेहत अच्छी रहती है और उन्हें लंबी आयु मिलती है अपितु स्त्रियों को शिव जी की आराधना करते समय और श्रावण मास में ऐसे भी कुछ चीज़ों का ध्यान रखना आवश्यक है तो आइए जानते हैं कौन सी हैं वो चीज़ें।

पुरुष और महिलाएं दोनों ही shivling की पूजा कर सकते हैं मगर स्त्रियों को शिवलिंग की पूजा करते समय एक बात पर ध्यान देना ज़रूरी है स्त्रियां कभी भी शिवलिंग की पूजा करते वक़्त शिवलिंग को हाथ ना लगाएं ऐसा माना जाता है कि स्त्रियों का shivling को छूना माता पार्वती को बिल्कुल पसंद नहीं है संभवतः आप ऐसा करके मां पार्वती के क्रोध को अपनी ओर बढ़ावा दे सकते हैं।

शिव जी की पूजा करते समय उन्हें कभी भी हल्दी नहीं चढ़ाना चाहिए. आप उन्हें उनकी अन्य प्रिय चीज़ें जैसे दूध, भांग, धतूरा, आक के फूल, शहद, बेलपत्र, आदि अर्पित कर सकते हैं. अपितु शिव जी को हल्दी अर्पित करना धर्म की दृष्टि से अशुभ माना गया है. तो ऐसा करने से बचें और इस बात का विशेष ध्यान रखें.

स्त्रियां कभी भी अपने केश खोलकर ना रखें ऐसा माना जाता है कि स्त्रियों के खुले केश से उनके आसपास नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है ऐसा कहा जाता है कि सीता माता का जब विवाह हो रहा था तब उनकी माता ने भी उनसे कहा था कि वो अपने बालों को खुला ना छोड़ें ऐसी मान्यता है कि स्त्रियों के बंधे हुए केश घर में रिश्तों को भी बांध कर रखते हैं।

जब भी किसी स्त्री का मासिक धर्म चल रहा हो तो उस स्त्री को उस वक़्त शिवलिंग की पूजा नहीं करनी चाहिए शास्त्रों के हिसाब से इसकी सख़्त मनाही है ऐसा करने से आपको विपरीत असर देखने को मिल सकता है।

जब भी आप व्रत या पूजा करते हों तो उस समय कभी भी काले रंग के वस्त्र धारण ना करें हिंदू धर्म में काले रंग को शुभ नहीं जाता ख़ासतौर पर जब आप कोई भी धार्मिक कार्य करते हैं तो काले कपड़े पहनना वर्जित होता है ये नियम सिर्फ श्रावण में शिव जी की पूजा के लिए ही नहीं बल्कि कभी भी किसी भी पूजा के लिए मान्य है।

श्रावण के समय मास-मदिरा का सेवन करना बिल्कुल मना होता है इसके साथ ही अदरक, लहसुन, बैंगन, गन्ने का रस, मूली, कढ़ी, प्याज़ तथा काली मिर्च के सेवन करने पर भी पाबंदी मानी जाती है ऐसा करना भगवान शिव को पसंद नहीं है तो अगर आप श्रावण में ये सारी चीज़ें करते हैं तो आप शिव जी को नाराज़ कर सकते हैं।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताएं ऐसी ही नई नई जानकारी के लिए हमें फॉलो करना न भूलें।

Join The Discussion