क्या आपके पुराने फ़ोन में ये सब है तो आपका फ़ोन नया फ़ोन बन जाएगा।


क्या आपके पुराने फ़ोन में ये सब है तो आपका फ़ोन नया फ़ोन बन जाएगा।

हैल्लो दोस्तों आज के समय में सभी लोग स्मार्टफोन रखते है और स्मार्टफोन में थोड़ी बहुत प्रॉब्लम तो होती रहती है और अगर आपका फ़ोन पुराना है तो प्रॉब्लम तो जरूर होगी इसके लिए हम आपको कुछ बाते बताने जा रहे है जिनसे आप यूज़ करके अपने पुराने फ़ोन को नया बना सकते है।

Smartphone

स्मार्टफोन कितना भी नया हो लेकिन अगर वो हैंग होने लगे या फिर स्लो काम करने लगे तो फोन के सारे फीचर्स आपके लिए बेकार हो जाते हैं। ऐसे में आज हम आपको 5 ऐसे तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनकी मदद से आपका पुराना फोन भी नए फोन की तरह काम करने लगेगा। जानते हैं इऩ 5 तरीकों के बारे में।

लाइट वर्जन एप

कई एप्स के लाइट वर्जन गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद हैं। उदाहरण के तौर पर फेसबुक ने अपने फेसबुक लाइट और फेसबुक मेसेंजर लाइट वर्जन को लॉन्च किया है। वहीं गूगल ने अपने यूट्यूब गो, मैप्स गो, जीमेल गो जैसे लाइट एप्स लॉन्च किए हैं। दरअसल लाइट वर्जन वाले ये एप आपके स्मार्ट फोन का डाटा और बैटरी दोनों ही कम इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में अगर आपका फोन कम रैम और स्टोरेज का है तो गो एप्स आपके बड़े काम आ सकते हैं।

लोकेशन

अगर लोकेशन फीचर की जरूरत नही है, तो इसे बंद ही रखें। दरअसल लोकेशन सर्विस ऑन रहने पर आपका मोबाइल लगातार अपनी लोकेशन को अपडेट करता रहता है। इसके आपके फोन की रैम और बैटरी दोनों की खपत होती है, जिससे आपका स्मार्टफोन स्लो काम करने लगता है।

एप्स

अपने स्मार्टफोन में उन एप्स को तुरंत डिलीट करें, जिनका इस्तेमाल आप नहीं करते हैं। इसके अलावा आप जिन एप्स का इस्तेमाल कर रहे हैं, उन्हें जरूर अपडेट करें। दरअसल बदलते तकनीक के साथ फोन और एप्स के लिए अपडेट्स जारी किए जाते हैं। इन अपडेट्स के जरिए आपका फोन मौजूदा तकनीक के साथ काम करता है। अगर आप फोन को अपडेट नहीं करते हैं तो इसका सीधा मतलब ये है कि तकनीक को बढ़ गई लेकिन आपको फोन उसी पुराने पैटर्न पर काम कर रहा है। ऐसे में हैकर्स के लिए आपके फोन को हैक करना ज्यादा आसान हो जाता है। साथ ही पुराने फीचर्स की मदद से आपका फोन स्लो काम करता है।

एंटी वायरस

फोन को वायरस और हैकर्स से बचाने के लिए सिक्योरिटी एप्स एक बेहतर विकल्प हैं। लेकिन अपने फोन में एक से ज्यादा सिक्योरिटी एप्स को डाउनलोड न करें। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपका फोन दो सिक्योरिटी एप्स के बीच कनफ्यूज्ड हो जाएगा। साथ ही आपके फोन की रैम से लेकर बैटरी तक की ज्यादा खपत होगी।

ऑटो ब्राइटनेस बंद करें

अगर आपके फोन में ऑटो ब्राइटनेस का ऑप्शन इनेबल है, तो तुरंत इसे डिसेबल करें। ऑटो बाइट ऑप्शन अगल-बगल के वातावरण के हिसाब से आपके स्क्रिन की ब्राइटनेस को बार-बार एडजस्ट करता है, इससे आपका फोन एक्टिव तो रहता ही है साथ ही बैटरी की खपत भी जारी रहती है।

हम आपको ऐसी ही बहुत सी जानकारी देते रहेंगे आप हमें फॉलो जरूर करें।

Kiran Kashyap

मैं किरण कश्यप एक हिंदी ब्लॉगर हूं हिंदी भाषा की इस website पर आपको वो जानकारी उपलब्ध करवाना चाहती हूँ जो आपकी life के लिए बहुत जरुरी है आपको हमारी इस website पर कुछ ऐसी जानकारी मिलेगी जो आपको कही नहीं मिलेगी हमारा हमेशा से यही प्रयास रहा है कि हम आपको आपकी life की अच्छी जानकारी दे। www.askinhindi.in आप हमारी website को जरूर फॉलो करें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *