गर्भावस्था के दौरान ऐसा कौन सा गहना पहनना चाहिए जिससे बच्चा बिलकुल स्वस्थ रहे

0

हेल्लो दोस्तों क्या आप जानते है ऐसा भी होता है जब कोई महिला गर्भावस्था में होती है तो उसके गहने पहनने से उसके शरीर पर बहुत फर्क पड़ता है अब हम आपको ये बताते है कि ऐसा कौन सा गहना है जिससे शरीर और फर्क पड़ता है।

भारत में शादीशुदा महिलाएं अपने पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनती है इसे पहनने के कई वैज्ञानिक और आध्यात्मिक कारणों के बारे में आयुर्वेद में बताया गया है इसका प्रचलन आज भी है दोस्तों आज तक हमने आपको गर्भावस्था के दौरान खाने पीने में रखने वाली सावधानियों के बारे में बताया है आज हम आपको बिछिया पहनने से होने वाले फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

मानसिक शांति

पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनने से तनाव और चिंता से राहत मिलती है और मानसिक शांति मिलती है नियमित रूप से बिछिया पहनने से ब्लड प्रेशर भी नॉर्मल बना रहता है| यदि ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहता है तो इससे महिला का गर्भ बिल्कुल स्वस्थ बना रहता है और इससे किसी भी प्रकार का तनाव और चिंता नहीं रहती है इसलिए गर्भावस्था के दौरान बिछिया पहनना फायदेमंद रहता है|

आप ये भी पढ़े – लिपस्टिक लगाने से हो जाती है ये बीमारी

रक्त प्रवाह बेहतर बनाएं

हमारे शरीर में खून की नसें सीधे पैरों की उंगलियों से गर्भाशय तक जुड़ी रहती है इसलिए यदि आप पैर की उंगली में बिछिया पहनते हैं तो इससे गर्भ में पल रहे शिशु का शरीर मजबूत होता है इसलिए गर्भवती महिलाओं को बिछिया पहनने की सलाह दी जाती है|

एक्यूप्रेशर के रूप में

पैरों की उंगलियों और गर्भाशय का सीधा संबंध होता है इसलिए यदि पैरों की उंगलियों पर पर्याप्त दबाव बनाया जाए तो यह गर्भाशय के लिए फायदेमंद होता है गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय में बच्चे का विकास होता है इसलिए जब बिछिया पहनते हैं तो यह एक्यूप्रेशर का काम करता है और बच्चा स्वस्थ रहता है यदि आप भी गर्भवती है तो अपने पैरों की उंगलियों में बिछिया जरूर पहने|

एनर्जी देने के लिए

गर्भावस्था के दौरान जब महिलाएं सिल्वर या मेटल की बिछिया पहनती हैं तो इससे उन्हें एक सकारात्मक ऊर्जा मिलती है दोस्तों हम सभी जानते हैं कि किसी भी तरह का मेटल ऊर्जा का अच्छा सुचालक माना जाता है इसे पहनकर जब महिलाएं जमीन पर चलती है तो सकारात्मक ऊर्जा को यह अवशोषित कर लेती है और यही उर्जा शरीर में ट्रांसफर हो जाती है ।

शरीर के अंदर का हिस्सा गर्भाशय से जुड़ा होता है इसलिए जब बिछिया पहनती हैं तो उससे ऊर्जा मिलती है शरीर को ऊर्जावान बनाने के लिए आप अपने पैरों की उंगलियों में बिछिया जरूर पहने|

मानसिक रूप से स्वस्थ बनाए रखें

गर्भावस्था के दौरान मानसिक रूप से भी स्वस्थ रहना बेहद जरूरी होता है इसलिए पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनने से मां के साथ-साथ बच्चे का भी मानसिक रूप से विकास अच्छी तरह से होता है और मन भी प्रसन्न रहता है यदि गर्भावस्था के समय चिंता या तनाव का अनुभव होता है तो आपको पैरों में बिछिया जरूर पहननी चाहिए|

दोस्तों आपको बहुत जरुरी जानकारी दी है और आप हमेशा याद रखें ताकि आप ऐसे समय पर ये चीज़ जरूर पहने आपको कैसी लगी पोस्ट हमे जरूर बताएं।

Loading...