पीरियड्स के समय अगर आपके साथ भी ऐसा होता है तो जरूर पढ़ें ये बातें

हेल्लो दोस्तों कुछ बाते ऐसी होती है जिनकी हमे जानकारी कम होती है लेकिन कुछ लोगो को होती है हम चाहते है सभी लोगो की इसकी जानकारी हो जिससे की कोई भी किसी भी बीमारी का सामना न कर सके।

महिलाएं बाल अवस्था से युवा अवस्था में आती हैं तो उसके शरीर में कई तरह के हार्मोनिक बदलाव होते हैं साथ हीं साथ उन्हें हर महीने पीरियड्स होने की भी समस्या होती हैं ऐसे तो पीरियड्स होना नॉर्मल सी बात हैं।

● अगर किसी महिला को पीरियड्स के समय उसके ओवरीज़ के आस पास सूजन आ जाती हैं तो महिलाएं इसे इगनोर बिल्कुल भी ना करें और डॉक्टर के पास शीघ्र जाएँ क्यों की पीरियड्स के समय ओवरीज़ में सूजन तभी आती हैं जब ओवरीज़ में संक्रमण हो जाते हैं इससे महिलाओं को रूबेला नामक बीमारी होने का ख़तरा होता हैं साथ हीं साथ इससे महिलाओं के शरीर में बनने वाले अंडे भी उच्च किस्म के नहीं होते हैं और महिला को गर्भाधान करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता हैं।

आप ये भी पढ़ें – लड़के के छूने पर क्या सोचती है लड़की

● पीरियड्स के समय अगर किसी महिला को काले रंग का रक्त स्राव होता हैं तो ये लिस्टेरिया नमक बीमारी के लक्षण होते हैं इससे महिलाओं के प्रजनन अंग संक्रमित हो जाते हैं और उनके जनन अंग में रक्त का संचार रूक जाता हैं इसलिए अगर किसी महिला को पीरियड्स के समय काले रंग के रक्त स्राव होते हैं तो उसे तुरंत डॉक्टर के पास जानी चाहियें ताकि उसे भविष्य में किसी बड़ी बीमारी का सामना करना ना पड़ें।

● ऐसे तो पीरियड्स का समय से पहले होना या समय के बाद होना नॉर्मल प्रक्रिया हैं लेकिन अगर किसी महिला का पीरियड्स एक सप्ताह से भी ज्यादा लेट हो रहे हैं और पीरियड्स के समय असहनीय दर्द का सामना करना पड़ रहा हैं तो ये नॉर्मल बात नहीं होती हैं ये महिलाओं के ओवरीज़ में किसी समस्या की वजह से होता हैं इसलिए अगर किसी महिला को ऐसा हो रहा हैं तो उसे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहियें ताकि उसका भविष्य सुरक्षित रह सके।

● पीरियड्स के समय अगर महिलाओं के शरीर में सूजन आ जाती हैं और दर्द की समस्या बनी रहती हैं तो यह महिलाओं के शरीर में हिमोग्लोबिन की कमी के कारण होता हैं इसलिए पीरियड्स के समय महिलाओं को ऐसे खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहियें जिसमे हिमोग्लोबिन की मात्रा सबसे अधिक पायी जाती हो इससे महिलाओं को दर्द से भी छुटकारा मिल जायेगा तथा शरीर में रक्त का संचार भी ठीक तरीकों से होने लगेगा इसलिए महिलाओं को पीरियड्स के समय इनका ध्यान देना ज़रूरी होता हैं।

● पीरियड्स के समय महिलाओं के शरीर में जितने भी परिवर्तन होते हैं वो बिल्कुल प्रेग्नेंसी के लक्षण जैसे होते हैं जैसे प्रेग्नेंसी में सिर दर्द, पेट दर्द और कमर दर्द की समस्या होती हैं उसी तरह पीरियड्स के समय भी महिलाओं को ऐसी समस्या का सामना करना पड़ता हैं ये सारी समस्या हार्मोनल बदलाव के कारण होता हैं इससे महिलाओं को डरने की कोई बात नहीं होती हैं ये सारी प्रक्रिया नॉर्मल होती हैं जो वक्त के साथ खुद ठीक हो जाती हैं लेकिन इस समय महिलाओं को ध्यान रखना ज़रूरी होता हैं ताकि उसके स्वास्थ पर कोई बुरा असर ना पड़ें।

अगर आप के साथ भी ऐसा कुछ होता है तो आप जरूर एक बार डॉक्टर से सलाह ले।

Kiran Kashyap

मैं किरण कश्यप एक हिंदी ब्लॉगर हूं हिंदी भाषा की इस website पर आपको वो जानकारी उपलब्ध करवाना चाहती हूँ जो आपकी life के लिए बहुत जरुरी है आपको हमारी इस website पर कुछ ऐसी जानकारी मिलेगी जो आपको कही नहीं मिलेगी हमारा हमेशा से यही प्रयास रहा है कि हम आपको आपकी life की अच्छी जानकारी दे। www.askinhindi.in आप हमारी website को जरूर फॉलो करें।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *