पहाडों पर क्यों बनाये जाते है मंदिर आओ हम आपको बताते है

0

जैसा की हम जानते है कि सभी देवी पहाडों पर ही विराजमान है देवी दुर्गा की आराधना हेतु 9 दिनों तक प्रमुख देवी मंदिरों में भक्तों की भीड़ उमड़ती है देवी के अनेक ऐसे मंदिर हैं जो पहाड़ों पर ही बने हैं देवी के अतिरिक्त अन्य देवताओं के भी मंदिर पहाड़ों पर ही बनाए गए हैं जैसे- बद्रीनाथ, केदारनाथ या अमरनाथ आदि ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक पहाड़ों पर मंदिर बनाए जानें के पीछे भी एक बड़ी वजह है।

Also Read – 

ऐसी बातें जिनके बिना हमारा ज्ञान अधूरा है

अगर आप भी पाना चाहते है 5000 रुपये तो भरे ये फॉर्म

जानिए क्या है वो बड़ा कारण

पहाड़ों पर मंदिर बनाने का पहला कारण

पहाड़ी पर निर्मित मंदिरों का आकार या स्वरुप कुछ-कुछ पिरामिडों के सामान मेल खाता है ग्रीक भाषा में पायर शब्द का अर्थ होता है अग्नि पिरामिड का अर्थ होता है, जिसके मध्य में अग्नि है वो वस्तु।

अग्नि ऊर्जा का एक प्रकार है अतः पिरामिड का वास्तविक अर्थ हुआ- जिसके मध्य में अग्निमय ऊर्जा बहती है वैज्ञानिक रिसर्च के द्वारा ज्ञात हुआ है कि पहाड़ी स्थानों पर पॉजिटिव एनर्जी का स्तर अन्य स्थलों के मुकाबले सबसे ज्यादा होता है।

जब लोग पहाड़ों के ऊपर चढ़कर दर्शन हेतु जाते हैं तो उस पॉजिटिव एनर्जी का प्रभाव उनके मनो-मस्तिष्क पर भी पड़ता है तथा उनके मन में आध्यात्मिक भाव प्रकट होते हैं।

पहाड़ों पर मंदिर बनाने की दूसरी वजह

प्राचीन भारत के ऋषि-मुनि को ये बात ज्ञात था कि आने वाले वक़्त में मनुष्य अपनी सुविधा हेतु जंगल आदि सबकुछ नष्ट कर देंगे, ऐसी स्थिति में योग साधना हेतु कोई स्थान शेष नहीं बचेगा।

मनुष्य निवास करने हेतु समतल भूमि पर उपयोग करेंगे, यह बात भी ऋषि-मुनि को भली-भाँती पता था अतः उन्होंने मंदिर हेतु पहाड़ों का ही चयन किया यहां आकर योगी अपनी साधना आसानी से कर सकते हैं, क्योंकि यहां शोर-शराबा नहीं अपितु एकांत होता है।

कार्य कैसा भी हो, उसे पूर्ण करने हेतु एकाग्रता का होना अत्यंत आवश्यक है साधना हेतु मन एकाग्र चाहिए और ये कार्य एकांत में ही संभव हो सकता है।

पहाड़ों पर मंदिर बनाने की तीसरी वजह

इसके अतिरिक्त एक बड़ी वजह ये भी है कि पहाड़ों पर प्राकृतिक सौंदर्य अपने मूल रूप में होती है, जो जीवन में ताजगी भरती है।

जब लोग पहाड़ों पर दर्शन हेतु पहुँचते हैं तो उनको प्राकृतिक सौंदर्य देखने को मिलता है, जो अन्य कहीं देखना संभव नहीं है।

आप जान गए होंगे की पहाडों पर ही मंदिर देखने को क्यों मिलते है आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताये ऐसी ही नयी नयी जानकारी के लिए हमे फॉलो करें।