लड़कियों के लिए मोदी सरकार ने निकली एक नयी योजना

लड़कियों को लेकर मोदी सरकार ने फिर उठाया एक कदम नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने से पहले हिंदुस्तान की जनता से जितने वादे किए थे, उनमें से कितने वादों को पूरा किया है इस बात की तो हम अभी तक कोई पुख्ता जानकारी नहीं है लेकिन हिंदुस्तान की बेटियों के लिए नरेंद्र मोदी एक आर्थिक की योजना लेकर आए हैं और यह योजना उस वक्त लेकर आए हैं जब हमारे देश में चुनाव का माहौल चल रहा है, बता दें कि इस समय राजनीतिक माहौल थोड़ा गर्म है और हल्की सी चूक किसी भी पार्टी के लिए बड़ा खतरा बन सकती है मोदी ने देश की बेटियों को एक बड़ा तोहफा दिया है।

इन्हें भी जरूर पढें – 

फ़ोन में वायरस है या नहीं ऐसे करे पता

प्रधानमंत्री आवास योजना को लेकर हुआ बड़ा खुलासा

अगर आप सरकार के कामकाज से थोड़ा जुड़े रहते हैं तो, आपको सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में जरूर पता होगा और यदि आपने इस योजना में निवेश किया है तो यह खबर आपको पूरी बननी चाहिए दरअसल इस योजना के अंतर्गत दिल लड़कियों की पढ़ाई से लेकर उनकी शादी तक की सभी सुविधाएं उनके माता-पिता को दी जा रही हैं, ताकि माता-पिता अपनी लड़की को अपने ऊपर बोझ ना समझें है।

सरकार ने इस योजना में बड़ा बदलाव किया है, इस बदलाव के अंतर्गत मिलने वाली ब्याज दर को .40 फीसदी तक बढ़ा दिया है, जिसके कारण देश की बेटियों को लगभग 4 लाख रुपए अधिक मिलेंगे जानकारी के अनुसार यदि कोई व्यक्ति सरकार की नई नीति के मुताबिक, नई ब्याज दरों पर 14 सालों तक 12500 रुपए हर महीने जमा करवाता है, मतलब 1.5 लाख रुपए हर साल जमा करवाता है।

15 साल में यह आंकड़ा लगभग 40 लाख रुपए छू लेगा, इसके बाद अगर कोई व्यक्ति 21 साल तक इन रुपयों को नहीं निकालता है, तो इस स्थिति में 21 साल तक पैसों की संख्या बढ़कर लगभग 70 लाखों रुपए हो जाएगी ऐसे में देश की बेटियों को तकरीबन 4 लाख रुपए का बड़ा मुनाफा होगा।

वैसे देखा जाए तो हर महीने इतने पैसे जमा करना गरीब के बस में तो नहीं है लेकिन जो इस योजना का फायदा उठाने में समर्थ हैं, उन्हें एक बार इस योजना के बारे में जरूर सोचना चाहिए मोदी सरकार की यह योजना कितनी सफल रहती है यह तो वक्त ही बताएगा।

आपको कैसी लगी ये योजना हमे जरूर बताये जानकारी पसंद आयी तो लाइक और शेयर जरूर करे ऐसी ही नई नई जानकारी के लिए हमे फॉलो करे।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *