क्यों लिखा होता है स्टेशन का नाम पीले बोर्ड पर

हर इंसान ट्रैन से सफर जरूर करता है आपने एक बार ट्रेन से यात्रा तो जरूर की होगी क्या आपने कभी ध्यान दिया है, कि रेलवे स्टेशन के नाम पीले रंग के बोर्ड पर ही क्यों लिखे होते हैं दरअसल पीले रंग के बोर्ड पर काले रंग से लिखाई की जाती है, तो क्या आपने कभी ख्याल किया है, कि ऐसा क्यों होता है? पीले रंग के बोर्ड पर ही रेलवे स्टेशन के नाम क्यों लिखे जाते हैं? आज की खबर में हम आपको बताने वाले है!

पीले रंग का सीधा कनेक्शन खुशी, बुद्धि और ऊर्जा से है यह सूरज के सामान तेज रोशनी वाला होता है। मनोवैज्ञानिक मानते हैं, की वास्तुोशिप के कारण से इस रंग का उपयोग किया जाता है।

भीड़ भाड़ वाले इलाकों में पीले रंग का बैकग्राउंड काफी अच्छे से दिखाई दे जाता है और हमारी आंखें आसानी से इस कलर को देख पाती हैं पीले रंग के बैकग्राउंड पर काले कलर की लिखाई सबसे ज्यादा इफेक्टिव रहती है, इसलिए जब रेलवे स्टेशन पर पहुंचने वाली होती है, तभी दूर से ही स्टेशन का नाम बड़ी ही सरलता पूर्वक यात्रियों को दिखाई दे जाता है।

ठीक उसी तरह लाल रंग के बैकग्राउंड वाले साइन बोर्ड का उपयोग खतरे के लिए किया जाता है। लाल कलर काफी चटक होता है और इसी वजह से गाड़ियों के पीछे लाल लाइट लगाई जाती है जिससे वह दूसरे गाड़ियों को इसके द्वारा आते देख सकें।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताये अगर आपको जानकारी पसंद आयी तो लाइक और शेयर जरूर करे

Join The Discussion