किसानों को लगा झटका, 12 हज़ार किसानों पर हुआ केस दर्ज

आज हम आपको बहुत ही झटका देने वाली खबर बताने जा रहे है। हरियाणा और पंजाब के किसान कृषि कानून को वापस लेने के लिए सरकार के खिलाफ आंदोलन कर रहे है। किसानो पर केस दर्ज किये जा रहे है। हालांकि किसानो का कहना है कि वो अपने हक़ की लड़ाई लड़ रहे है। लेकिन सरकार उनके साथ ज्यादती कर रही है।

बटन लाजमी है कि डबवाली शहर पुलिस पंजाब के किसानों द्वारा डबवाली में लगे बेरिकेड्स को तोड़कर दिल्ली पहुंचने के बाद जागती नजर आई। शहर थाना में बेरिकेड्स तोडऩे वाले इन 10 से 12 हजार किसानों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत थाना प्रभारी की शिकायत पर ही केस दर्ज किया गया है।

अभी तक पुलिस की एफआईआर में कोई भी नामजद नहीं है, बल्कि अज्ञात लोगों दिखाए गए हैं। अब पुलिस पहचान के बाद ही इन पर कार्रवाई करेगी।

बता दें कि बीते दिवस पंजाब के किसानों को दिल्ली जाने से रोकने के लिए पुलिस की ओर से बार्डर एरिया में नाकेबंदी की गई थी। बठिंडा से सिरसा जिला में प्रवेश करने वालों को रोकने के लिए भी डबवाली में बठिंडा रोड पर बेरिकेड्स लगाए गए थे। लेकिन हजारों लोगों की भीड़ ने बेरिकेड्स तोड़ डाले।थाना प्रभारी ईश्वर सिंह की ओर से दर्ज करवाई गई शिकायत में बताया कि 10-12 हजार लोगों ने बेरिकेड्स तोड़कर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया।

जिसमें पंजाब के लोग व किसान नेता शामिल थे। शिकायत में बताया गया कि आरोपियों ने सरकारी कार्य में बाधा डाली, पुलिस कर्मियों को अपना काम नहीं करने दिया। इसके साथ ही कोविड-19 महामारी एक्ट का भी उल्लंघन किया।

शहर डबवाली पुलिस ने मामले में आरोपियों के खिलाफ भादंसं की धारा 147, 149, 332, 353, 186, 188, 427, महामारी एक्ट की धारा-3 व पब्लिक प्रोपर्टी डैमेज एक्ट की धारा-3 के तहत मामला दर्ज किया है। गौरतलब है कि इस आंदोलन के शुरू होने के दो दिन पहले भी हरियाणा के कुछ किसानों को पुलिस ने बिना किसी वॉरंट के उनके घर से गिरफ्तार कर लिया था। और एक बार फिर से किसानो पर केस दर्ज किये गए है।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताएं अगर आपको जानकारी पसंद आई तो लाइक और शेयर जरूर करें और कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं।

Join The Discussion