IPL 2020 कोहली ने जिसको दिखाया था बाहर का रास्ता, वही बना धोनी का मैच विनर

क्या आपभी आईपीएल 2020 का इंतजार कर रहे थे तो अब इंतज़ार हो गया खत्म आईपीएल 2020 शनिवार को जब लंबे इंतजार के बाद शुरू हुआ तो शायद ही किसी ने यह सोचा होगा कि पहले मैच में टॉप स्कोरर वो खिलाड़ी होगा, जिसने कभी गुस्से में इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा था।

यूएई में खेले जा रहे आईपीएल 2020 (IPL 2020) का पहला मैच डैड आर्मी कही जाने वाली चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने जीता महेंद सिंह धोनी के सुपर किंग्स ने इस मुकाबले में गत चैंपियन मुंबई इंडियंन को 5 विकेट से हराया टीम के टॉप स्कोरर अंबाती रायडू रहे, जिन्होंने पिछले साल विश्व कप से ठीक पहले संन्यास ले लिया था रायडू 10 महीने बाद कोई मुकाबला खेलने उतरे थे।

अंबाती रायडू जब मुकाबले में उतरे तो चेन्नई सुपर किंग्स की टीम 6 रन पर 2 विकेट गंवाकर दबाव में थी लक्ष्य 163 रन का था तजुर्बे से भरपूर चेन्नई की टीम यह जानती थी कि संभलकर बैटिंग की जाए तो लक्ष्य मुश्किल नहीं है लेकिन टी20 में सिर्फ विकेट बचाकर मैच नहीं जीता जा सकता बीच-बीच में अटैक करने की जरूरत होती है यह जिम्मेदारी संभाली अंबाती रायडू. याद रहे, ये वही रायडू हैं, जिन्हें जनवरी 2019 तक टीम इंडिया का बेस्ट नंबर-4 बताया जा रहा था और मार्च-2019 आते-आते कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का उन पर से भरोसा उठ चुका था।

बहरहाल, हम चेन्नई और मुंबई के मैच पर लौटते हैं. उन्होंने दक्षिण अफ्रीकी स्टार फाफ डू प्लेसी के साथ 115 रन की साझेदारी की इन 115 रनों में 71 रन अकेले रायडू के थे डू प्लेसी एक छोर पर आराम से खेल रहे थे और दूसरे छोर पर रायडू मुंबई के आक्रमण को तहस नहस कर रहे थे उन्होंने ना सिर्फ मैच में सबसे अधिक रन बनाए, बल्कि चौके और छक्के लगाने में भी सबसे आगे रहे रायडू ने 48 गेंदों की अपनी पारी में 6 चौके और 3 छक्के लगाए।

संन्यास ले चुके, पर हल्के में मत लेना34 साल के अंबाती रायडू जब आउट हुए तब तक चेन्नई की जीत तय हो चुकी थी रायडू की इस पारी के दो संदेश हैं एक तो इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास ले चुके खिलाड़ियों को आईपीएल में हल्के में लेने की गलती नहीं करनी चाहिए और दूसरी बात यह कि अगर वह एमएस धोनी की डैड आर्मी का सदस्य है तब तो बिलकुल भी नहीं, जो खुद भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं।

क्रिकेटपेमी जानते हैं कि विश्व कप 2019 से कुछ महीने पहले तक अंबाती रायडू को भारतीय टीम प्रबंधन नंबर-4 का बेस्ट बल्लेबाज बता रहा था जनवरी-फरवरी 2019 में ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड के दौरे पर उनका फॉर्म चला गयासाथ ही कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री का भरोसा भी उन्होंने गंवा दिया इसके बाद टीम इंडिया में नंबर-4 के लिए विजय शंकर की अचानक एंट्री हुई विजय शंकर विश्व कप के लिए चुने गए और रायडू ने निराश होकर संन्यास ले लिया।

आपको कैसी लगी जानकारी कमेंट करके जरूर बताएं अगर आपको जानकारी पसंद आई तो लाइक और शेयर जरूर करें।

Join The Discussion