सर्दियों में बढ़ सकता है कोरोना का कहर , जरूर करना ये काम

जैसा कि हम सभी जानते है कि दुनिया भर में कोरोना वायरस कहर बढ़ता जा रहा है। इस वक्त करोड़ों लोग कोरोना वायरस की चपेट में आ चुके है और लाखों लोगों की मौत भी हो चुकी है।

हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने चेतावनी दी है कि अगर कोरोना वायरस से मिलकर नहीं लड़ा गया। तो इस वायरस की वजह से 20 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो जाएगा। लेकिन इस बीच अब कोरोना वायरस पर एक और चौकाने वाली रिपोर्ट आई है। दावा किया गया है कि ठंड के महीने में कोरोना वायरस एक बार फिर अपनी रफ्तार पकड़ेगा। जिससे कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के आंकड़े में तेजी से वृद्धि होगी।

वैज्ञानिकों के मुताबिक, ठंड के मौसम में लोग घर, ऑफिस जैसी जगहों पर बंद रहते है और इंडोर जगहों पर कोरोना वायरस फैलने का खतरा ज्यादा रहता है।

दरअसल कोलोराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के एटमॉसफियर केमिस्ट डेलफिन फार्मर के मुताबिक, खराब वेंटिलेशन वाले इंडोर स्थानों में वायरस का असर ज्यादा दूर और देर तक रहता है। डेलफिन फार्मर ने चेतावनी देते हुए कहा कि इन फैंसी दिखने वाली चीजों को नजरअंदाज करना चहिए।

कोरोना से बचने के लिए सबसे सही पानी और साबुन है। इसी से हाथ धोने चाहिए। इसके अलावा लंबे समय से कोरोना वायरस पर अमेरिकी वैज्ञानिक मार भी रिसर्च कर रही है। उनके मुताबिक, खराब वेंटिलेशन वाली जगहों पर कोरोना वायरस फैलने का ज्यादा खतरा रहता है। जैसे रेस्टोरेंट और बार। ऐसे जगहों पर वायरस ज्यादा देर तक रहता है और ज्यादा दूर तक फैलने का खतरा बना रहता है। इसी वजह से कोरोना वायरस से बचने का सबसे अच्छा तरीका यही है कि अपने मुंह को ढक कर रखे और हाथो को बार-बार धोए।

वैज्ञानिकों के मुताबिक, कोरोना के बीच भीड़ से दूर रहें। इन दिनों कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम के लिए प्रोत्साहित करें। सिर्फ उन्हीं लोगों को बिल्डिंग में एंट्री दें। जिनका फिजिकली मौजूद रहना जरूरी है। इसके अलावा हर बिल्डिंग में एयर फिल्टर लगाए और लगातार सैनिटाइजर करते रहे। लिफ्ट में लोगों की संख्या पर भी ध्यान रखें।

वैज्ञानिक के मुताबिक, कोरोना के बीच बाजार में कई महंगे उपकर आ गए है लेकिन महंगा उपकरण इस्तेमाल करने की बजाय साबून और पानी का इस्तेमाल करे। इंडोर वायरस के फैलने से रोकने के लिए कई तरह के उपकरण आए है। जिसमें दावा है कि ये कमरे की सतह को पूरी तरह साफ कर देगा और हवा को वायरस मुक्त कर देगा। लेकिन ऐसे ज्यादातर प्रोडक्ट ओवरकल और हानिकारक है।

हार्वर्ड में बिल्डिंग सेफ्टी के एक्सपर्ट जोसेफ एलेन कहते हैं कि सिर्फ वेटिलेशन को ठीक करके कोरोना वायरस के रोका नहीं जा सकता। कोरोना को रोकने के लिए कुछ सामूहिक प्रयास करने होंगे। इसी से कोरोना का खतरा कम किया जा सकता है।

आपको कैसी लगी जानकारी हमें जरूर बताएं ऐसी ही नई नई जानकारी पाने के लिए हमें फ़ॉलो जरूर करें।

Join The Discussion