मांसपेशियों का दर्द से कैसे पाएं छुटकारा, इस्तेमाल करे यह चीज

आजकल लोगों को मांसपेशियों में दर्द की बड़ी समस्या रहती है। मांसपेशियों में खिंचाव एक आम समस्या है। कई बार ऐसा होता है कि कुछ उठाते हुए, सीढ़ियां चढ़ते हुए या फिर तेज भागने से मांसपेशियां खिंच सकती है। इसे मांसपेशियों में खिंचाव या तनाव कहा जाता है। मांसपेशियों का ये खिंचाव हाथ, पैर, जोड़ों या पीठ में हो सकता है। ऐसे में इनसे निजात पाने के लिए उपाय करना बेहद जरूरी है।

पेट की मांसपेशियों में दर्द जिसको एब्डोमिनल पेन भी कहा जाता है ,से होने वाले दर्द को नजरअंदाज करना घातक साबित हो सकता है।कई बार लोगों को पेट के दर्द में बेचैनी या सूजन की शिकायत होती है। उदर की मांसपेशियों में अधिकतर दर्द रहना बोवेल कैंसर के भी लक्षण हो सकते हैं। विशेषज्ञों का यह मानना है कि अगर इस हिस्से में चार हफ्तों से ज्यादा तक की शिकायत हो तो चिकित्सकों की सलाह लेनी आवश्यक है।

कमर की मांसपेशियों में दर्द होना बेहद आम बात है तथा ये कुछ हफ्तों व महीनों में ठीक हो जाता है। मांसपेशी में दर्द होना सामान्य तौर पर दर्दनाक लगता है। ऐसे में लोग पीठ में तनाव या कठोरता महसूस करते है । कमर का दर्द कई कारणों से हो सकता है। जैसे अचानक असामान्य गतिविधि या गिरावट और चोट व चिकित्सा की स्थिति भी शामिल है।

आपकी क्वाड्रिसेप्स की मांसपेशियां जांघ के सामने रहती हैं और कूल्हे को ऊपर की ओर झुकाती हैं तथा घुटने को सीधा रखती हैं। हैैमस्ट्रिंग पीठ में होती है। हैमस्ट्रिंग की मांसपेशियां घुटने को मोड़ने में सहायक होती है। जांघ के अंदर के हिस्से पर जो ग्रोइन की मांसपेशियां होती हैं वह आपके पैर को अंदर खींचती है। कई नसें जांघों के नीचे जाती हैं।

जांघ में दर्द होना एक आम समस्या है जिसको काफी लोग अनुभव करते हैं। यह दर्द धीरे-धीरे या अचानक हो सकता है। इस दर्द के कारण आपको चलने, दौड़ने या सीढ़ियां चढ़ने जैसे सामान्य कार्यों में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है।

मांसपेशियों के इस खतरनाक दर्द से बचने के लिए रोजाना के कामों को करने के दौरान मांसपेशियों में आने वाले खिंचाव और चोट से बचना चाहिए। एक स्थिति में ज्यादा समय तक बिलकुल न बैठें। पीठ की मांसपेशियों के तनाव को कम करने के लिए खड़े होने और बैठने के समय पर अच्छी मुद्राएं बनाएं। बढ़ते हुए वजन को कम करने पर ध्यान दें। वहीं अगर आप व्यायाम करना शुरू करते है तो धीरे-धीरे शुरू करें।

मांसपेशियों का दर्द का इलाज दवाओं, फिजियोथेरेपी, इंजेक्शन, ज्वाइंट रिप्लेसमेंट, एक्यूप्रेशर से ठीक हो सकता है। लेकिन जिस तरह का दर्द होता है, डॉक्टर उसके अनुसार ही इलाज की सलाह देते हैं। सिर्फ एक्सरसाईज करने से भी दर्द कई बार ठीक हो जाता है। लेकिन दर्द फिर भी बना रहे तो शुरुआती अवस्था में ही इलाज शुरू कर देना चाहिए।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताएं जानकारी अगर पसंद आई तो लाइक और शेयर जरूर करे ऐसी ही नई नई जानकारी के लिए हमे फॉलो करें।

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *