बाबा के ढाबे पर बाबा के चेहरे पर आई मुस्कान, बाबा ने कमाए इतने रुपये

आज हम आपको बहुत ही खास जानकारी देने जा रहे है दिल्ली के मालवीय नगर में छोटे से ढाबे ‘बाबा का ढाबा’ का नजारा सोशल मीडिया के असर के कारण अब बिल्कुल बदल गया है क्योंकि एक दिन पहले तक जहां इस जगह पर सन्नाटा पसरा था, वहां गुरुवार को ग्राहकों की भीड़ लगी। इस सुखद बदलाव का पता ढाबे के मालिक कांता प्रसाद के बिना दांतों वाले मुंह की मुस्कान से भी चलता है जो वह बार-बार अपना मास्क उतार कर प्रकट करते हैं।

इतना ही नहीं ‘बाबा का ढाबा’ मालिक ने एक दिन में इतने कमा लिए कि उन्होंने सोचा भी नहीं होगा। शख्स के खाते में 2 लाख रुपए से ज्यादा की डोनेशन आ चुकी है।

कांता प्रसाद कहा कि वह इतनी डोनेशन से काफी खुश हैं और इससे उनकी जरूरतें आसानी से पूरी हो जाएगी। साथ ही वीडियो में बुजुर्ग कपल ने लोगों से अपील की है वे अब किसी और जरूरतमंद की आर्थिक मदद करें, मेरे लिए इतना काफी है। गुुरुवार को 80 वर्षीय कांता प्रसाद और उनके परिवार के लिए सब कुछ बदल गया जो कोरोना महामारी के कारण पाई-पाई का मोहताज था।

सोशल मीडिया पर पोस्ट कांता प्रासाद की एक तस्वीर ने जादू कर दिया जिसमें वह लॉकडाउन के महीने में अपनी व्यथा को बताते हुए रो पड़े थे। इस वीडियो को उपयोगकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर साझा किया। इसके बाद ग्राहकों की कतार लग गई जिसमे कैमरा दल, ब्लॉगर, पत्रकार भी शामिल थे।

बड़ी-बड़ी हस्तियों ने भी किया ट्वीट
दिल्ली के मालवीय नगर में बाबा का ढाबा एक छोटा सा ढाबा है जिसने सभी का ध्यान आकर्षित किया है और कई बड़ी हस्तियों ने भी लोगों से इस ढाबे पर खाने की अपील की। सोशल मीडिया पर मार्मिक वीडियो आने के एक दिन बाद ट्विटर पर हैशटैग बाबा का ढाबा ट्रेंड करने लगा और इतने ग्राहक पहुंच गए जितने उन्होंने 30 साल के कारोबार में नहीं देखे थे। गौरतलब है कि प्रसाद अपनी पत्नी के साथ 1990 से यह ढाबा चला रहे हैं लेकिन लॉकडाउन और उसके बाद के हफ्तों में काम ठप पड़ गया।

दंपति द्वारा बनाया गया अधिकतर खाना बिना बिके ही रहा जाता था। उनकी पीड़ा तब सामने आई जब इंस्टाग्राम इनफ्यूएंसर गौरव वासन ने प्रसाद के दर्द का वीडियो बनाया और सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया।

सोशल मीडिया पर वीडियो आने के बाद रातों-रात इस बुजुर्ग दंपति की मदद के लिए देशभर में मदद के लिए एकतरह से आंदोलन शुरू हो गया। वासन, जिन्होंने अपने इंस्टाग्राम हैंडल से वीडियो पोस्ट किया था, ने कहा कि वह शहर के कम चर्चित खाने-पीने की दुकानों को देखते हैं लेकिन कभी कल्पना नहीं की थी कि उनका पोस्ट इतना आकर्षण पैदा करेगा।

वासन ने कहा, ”मैं खुश हूं कि मैंने उनकी मदद के लिए पहला कदम उठाया। मैंने महसूस किया कि वे अच्छा खाना बनाते हैं… केवल कमी मार्केटिंग की है और मैंने सोचा कि मैं सोशल मीडिया पर अपने ‘फॉलोअर’ (अनुकरण करने वाले) का इस्तेमाल इसमें कर सकता हूं। इसने इतना समर्थन पैदा किया, मैं आगे भी अन्य ढाबों पर ध्यान केंद्रित करना जारी रखूंगा जिन्हें इस समय जरूरत है।”

बता दें कि वासन के इंस्टाग्राम पर करीब 1,15,000 फॉलोअर हैं। बाबा का ढाबा पर सबसे पहले पहुंचने वालों में आम आदमी पार्टी के विधायक सोमनाथ भारती भी थे। उन्होंने ट्वीट किया, ” मैं बाबा का ढाबा गया और वादे के मुताबिक उनके चेहरे पर मुस्कुराहट लाने के लिए काम किया। मैं उनकी देखभाल करूंगा और मैं ऐसे ही लोगों की मदद के लिए अभियान शुरू कर रहा हूं।”

सुनील शेट्टी, रणदीप हुड्डा और रवीना टंडन जैसे बॉलीवुड सितारों ने भी इस वीडियो को रीट्वीट कर लोगों से दंपति और अन्य रेहड़ी पटरी वालों की मदद करने की अपील की थी जो कोविड-19 महामारी के दौरान चुनौती का सामना कर रहे हैं। इस अभियान को मिले समर्थन से छोटे दुकानदारों और रेहड़ी पटरी वालों में उम्मीद जगी है।

आपको कैसी लगी जानकारी हमें जरूर बताएं ऐसी ही नई नई जानकारी पाने के लिए हमें फ़ॉलो जरूर करें।

Join The Discussion