फिल्पकार्ट अब नए तरीके से यूज़र्स को मिलेगा समान, आइये जानते है

आज मैं फ्लिपकार्ट में होने वाले बदलाव के बारे में बताने जा रही हूं जी हाँ सही सुना आपने फ्लिपकार्ट इको फ्रैंडली पेपर्स बनाने पर भी काम कर रही है और पॉली पाउच को रिसाइकिल्ड पेपर बैग्स में भी बदलने की सोच रही है।

वॉलमार्ट के मालिकाना हक वाली ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने गुरुवार को बताया कि कंपनी ने सिंगल-यूज़ प्लास्टिक के प्रयोग में 25 फीसदी तक की कमी कर ली है और कोशिश है कि मार्च 2021 तक इसे बढ़ाकर 100 फीसदी कर लिया जाए. इसके लिए कंपनी पूरी तरह से रिसाइकिल्ड प्लास्टिक का प्रयोग करेगी।

फ्लिपकार्ट ने EPR एक्सटेंडेड प्रोड्यूसर रिपॉन्सबिलिटी के लिए फाइल किया है और कोशिश कर रही है कि 30 फीसदी कलेक्शन को पहले साल में वापस ले लिया जाए. दरअसल ईपीआर के तहत किसी इलेक्ट्रॉनिक सामान को मैन्यूफैक्चर करने वाली कंपनी की जिम्मेदारी होती है कि वह प्रोडक्ट जब यूज़ करने लायक न रह जाए तो कंपनी उसे फिर से कलेक्ट करके उसका उचित ट्रीटमेंट करें।

इसके अलावा फ्लिपकार्ट इको फ्रैंडली पेपर्स बनाने पर भी काम कर रही है और पॉली पाउच को रिसाइकिल्ड पेपर बैग्स में भी बदलने की सोच रही है. साथ ही बबल रैप और एयरबैग्स को बबल रैप से रिप्लेस करने की भी योजना है. पीएम मोदी ने 15 अगस्त के अपने भाषण में लोगों से अपील की थी कि वह सिंगल यूज़ प्लास्टिक से दूर रहे इसके अलावा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर मन की बात में भी पीएम मोदी ने भारत को प्लास्टिक मुक्त बनाने की लोगों से अपील की थी।

फ्लिपकार्ट ग्रुप सीईओ कल्यान कृष्णमूर्ति ने कहा कि सिंगल-यूज़ प्लास्टिक की पैकेजिंग का दूसरा विकल्प तलाशने को जो कदम हमने उठाया है ये पर्यावरण को बेहतर बनाने की दिशा में काफी बड़ी भूमिका अदा करेगा हमारा लक्ष्य है कि प्लास्टिक के यूज़ को कम किया जाए और रिसाकिल्ड प्लास्टिक के यूज़ को बढ़ाया जाए।

आप भी अगर फिल्पकार्ट यूज़ करते है तो आपके यह खबर काम आएगी।

Join The Discussion