दीवाली के बाद खुलेंगे इन राज्यो में स्कूल, जारी होगी ये गाइडलाइन

अब सरकार भी फैसला लेने जा रही है। कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए अब तक भी कई राज्य स्कूल खोलने का निर्णय नहीं कर पाए हैं। जिन राज्यों ने स्कूल खोलने का निर्णय कर भी लिया है, वहां भी बहुत ही कम संख्या में बच्चे स्कूल पहुंच रहे हैं। इनमें से कई राज्य दिवाली के बाद स्कूल खोलने पर विचार कर रहे थे। आइए, जानते हैं कि इन राज्यों ने स्कूल खोलने को लेकर अब क्या फैसला किया है?

कोरोना काल में उत्‍तर प्रदेश, बिहार, जम्‍मू-कश्‍मीर, उत्‍तराखंड सहित कई राज्‍यों में 15 अक्‍टूबर से ही स्‍कूल खोले जा चुके हैं। त्रिपुरा में 5 अक्टूबर से ही स्कूल खुल चुके हैं। इसी बीच अब खबर यह आ रही है कि महाराष्ट्र सरकार ने भी स्कूल खोलने का फैसला कर लिया है।

स्कूल खोलने को लेकर क्या हैं केंद्र की गाइडलाइंस

बता दें कि स्कूल खोलने को लेकर केंद्र ने कुछ जरूरी गाइडलाइंस दिए थे। हर राज्य के लिए जरूरी है कि वह यह तय कर ले कि प्रदेश के स्कूल इन सभी जरूरी गाइडलाइंस का पालन करने के बाद ही स्कूल खोल रहे हैं या नहीं, इस बात की तस्दीक अवश्य कर लें। क्या हैं ये गाइडलाइंस, आप भी जान लें।

स्कूल जाना अनिवार्य नहीं, ऑनलाइन क्लासेज का भी विकल्प उपलब्ध है।

– स्कूल जाने के लिए अभिभावकों की लिखित अनुमति जरूरी है।

– परिसर, फर्नीचर, स्टेशनरी, पानी और शौचालयों का संक्रमणमुक्त होना आवश्यक है।

– बच्चों के बैठने के प्लान में सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाए। साथ ही अलग-अलग टाइम टेबल बनाए जाएं।

– स्कूल में डॉक्टर या नर्स या अटेंडेंट फुल टाइम मौजूद होना चाहिए।

– छात्र और शिक्षक के हेल्थ स्टेटस को अपडेट करना भी जरूरी है।

आंध्र प्रदेश

आंध्र प्रदेश में 2 नवंबर से ही स्कूल खोले जा चुके हैं। मुख्यमंत्री वाईएस जगन रेड्डी ने स्कूल खोलने से पहले ही छात्रों और शिक्षकों का कोरोना टेस्ट किया था, जिसमें कई शिक्षक कोरोना संक्रमित पाए गए थे।

महाराष्ट्र

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस संबंध में कहा है कि हम सभी ऐहतियात कदम उठाते हुए दिवाली के बाद स्कूलों को फिर से खोलने पर हम विचार कर रहे हैं। बता दें कि पिछले रविवार को ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने यह साफ कर दिया था कि हम सभी ऐहतियाती कदम उठाते हुए दिवाली बाद स्‍कूल फिर से खोलेन पर विचार कर रहे हैं।

गोवा

गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा है कि गोवा में 10वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए 21 नवंबर से स्कूल खुल जाएंगे। सभी स्कूलों को कोरोना गाइडलाइंस का पालन करना जरूरी है। राज्य सरकार इस संबंध में जल्द ही गाइडलाइंस जारी करने का काम करेगी। इधर, हरियाणा में 16 नवंबर से राज्य के सभी स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी खुल जाएंगे।

झारखंड

झारखंड सरकार ने कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से जारी लॉकडाउन में छूट के लिए जो नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, उसमें सरकार ने स्कूल शुरू करने की फिलहाल अनुमति नहीं दी है। सिर्फ विभिन्न परीक्षाओं के लिए पंजीकरण के उद्देश्य से छात्रों को स्कूल या कॉलेज में बुलाने की परमिशन दी है।

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल की ममता सरकार ने कोरोना के मामलों को देखते हुए 30 नवंबर तक राज्य के सभी शिक्षण संस्थानों को बंद रखने का आदेश दिया है। ममता बनर्जी ने साफ कर दिया है कि 30 नवंबर के बाद अगर राज्य सरकार को हालात सामान्य लगे तो दिसंबर में स्कूल कॉलेज खोलने पर फैसला लिया जाएगा।

अरुणाचल प्रदेश और तमिलनाडु

अरुणाचल प्रदेश और तमिलनाडु में 16 नवंबर यानी दिवाली के बाद से स्कूल खुल जाएंगे। अरुणाचल प्रदेश में 10वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए स्कूल दिवाली के बाद खुल जाएंगे। वहीं, तमिलनाडु में 9वीं से 12वीं तक के छात्रों के लिए कक्षा चलाने का निर्णय सरकार की ओर से किया गया है। इन दोनों राज्यों में स्कूल जाने वाले छात्रों के लिए मास्क लगाना जरूरी है।

राजधानी दिल्ली

राजधानी दिल्ली में भी कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए अगले आदेश तक स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया गया था। बता दें कि दिल्ली में पिछले 10 दिनों से लगातार कोरोना के मामलों में इजाफा हो रहा है। नवंबर माह में कोरोना के मामलों में यहां बेतहाशा बढ़ोतरी देखी गई है। पिछले 24 घंटे में तो कोरोना के सबसे ज्यादा 8593 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जो एक दिन में अब तक का सबसे अधिक मामला कहा जा रहा है। वहीं, सोमवार को 7830 केस सामने आए थे।

दिल्ली के मौजूदा हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने फिलहाल ​स्कूल न खोलने का निर्णय लिया है। साथ ही यह भी कहा है कि राज्य में स्कूल खोलने के फैसले को लेकर अगले आदेश तक इंतजार करना होगा। सिसोदिया ने कहा कि कोविड-19 हालात के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी के सभी स्कूल अगले आदेश तक बंद रहेंगे। सिसोदिया ने यह भी साफ किया कि प्रदेश में बच्चों के परिजन फिलहाल स्कूल खोले जाने के पक्ष में नहीं हैं।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताये अगर जानकारी पसंद आई तो लाइक और शेयर जरूर करें।

Join The Discussion