दीवाली के दिन पूजा में जरूर करे शामिल यह चीजें, मिलेगी सुख शांति पैसा

0

आज हम आपको बहुत ही खास ही जानकारी देंगे
दीपावली की रात को मां लक्ष्‍मी की खास विधि-विधान और मंत्रोच्‍चार के साथ पूजा की जाती है और माता को खुश करने के लिए उनका पसंदीदा भोग लगाते है। इस मौके पर मां लक्ष्‍मी को प्रिय इन चीजों का भोग लगाने और इसे प्रसाद के रूप में लोगों में बांटने व खाने से धन, समृद्धि में अपार वृद्धि होती है और मां लक्ष्‍मी का आर्शीवाद सदैव मिलता रहता है। आप भी घर ले आएं ये वस्‍तुएं और माता लक्ष्‍मी को करें खुश।

बताशा

माता लक्ष्मी को खुश करने के लिए आप भोग में बताशा का प्रयोग कर सकते हैं। रात्रि जागरण में आप पतासे का भोग लगाकर हर किसी को प्रसाद दे सकते हैं। इसका संबंध चंद्रमा से है, इसलिए दीपावली के दिन बताशे और चीनी के खिलौने माता लक्ष्मी को भोग लगाए जाते है।

गन्ना

दीपावली की रात माता लक्ष्‍मी के पूजन में गन्‍ना यानी ईख का भोग लगाने से उनके ऐरावत हाथी खुश होते हैं। अपने प्रिय हाथी को खुश करने वाले भक्‍त पर मां लक्ष्‍मी की विशेष कृपा होती है। उस जातक के जीवन के गन्‍ने की मिठास के साथ ही धन, वैभव और ऐश्‍वर्य की भी प्राप्ति होती है।

अनार

फलों में मां लक्ष्‍मी को अनार बहुत ही पसन्द है। दिवाली में लक्ष्मी पूजन सामग्री में आप अनार जरूर शामिल करें। इसके अलावा आप फलों में केला और सेब भी शामिल कर सकते हैं।

सिंघाड़ा

मां लक्ष्मी को प्रिय फलों में से एक जल सिंघाड़ा भी है। जल में पैदा होने की वजह से यह माता लक्ष्मी का प्रिय है। और मौसमी फल होने की वजह से यह बाजार में आसानी से मिल जाएगा और इसको आप पूजा सामग्री में शामिल कर सकते हैं।

नारियल

देवी लक्ष्‍मी को प्रिय होने के कारण नारियल को श्रीफल कहा गया है। नारियल कई परत में होने के कारण इसे बहुत शुद्ध और पवित्र माना गया है। इसलिए माता लक्ष्‍मी से जुड़ी हर पूजा में श्रीफल का भोग लगाना जरूरी होता है।

पान

लक्ष्मी पूजन में पान का होना बहुत शुभ माना गया है। पान को खुशी का कारक माना जाता है। शास्त्रों के मुताबिक, ब्रह्मांड के रूप में पूजा में पान पर सुपारी का उपयोग किया जाता है। इसलिए शरद पूर्णिमा के दिन देवी लक्ष्मी को खुश करने के लिए आप उनकी पूजा सामग्री में पान भी शामिल कर सकते हैं।

मखाने

जिस प्रकार से देवी लक्ष्‍मी समुद्र मंथन होने पर सागर से उत्‍पन्‍न हुई थीं। उसी तरह से मखाने की उत्‍पत्ति भी जल से हुई है। साथ ही यह देवी लक्ष्‍मी के आसन माने जाने वाले कमल के पौधे से प्राप्त होता है। इसलिए लक्ष्‍मी पूजन में मखाने को जरूर शामिल करें।

खीर

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, माँ लक्ष्मी को खुश करने के लिए मखाने और चावल से बनी खीर का भोग लगा सकते हैं।

आपको कैसी लगी जानकारी हमे जरूर बताएं जानकारी अगर पसंद आई तो लाइक और शेयर जरूर करे ऐसी ही नई नई जानकारी के लिए हमे फॉलो करें।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.